You are here: Homeदेशराजनीतिकद्दावर नेता राम कारन आर्य को उम्रकैद

कद्दावर नेता राम कारन आर्य को उम्रकैद

Written by  Published in Political Monday, 10 April 2017 16:50

बस्ती : जिला एवं सत्र न्यायाधीश अनिल कुमार पुण्डीर ने प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री रामकरन आर्य को हत्या के मामले में दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास एवं 23,000 रूपये अर्थदण्ड की सजा सुनायी है। अभियोजन पक्ष के अनुसार कोतवाली थाना क्षेत्र के आवास विकास तिराहे के निकट भरवलिया निवासी शम्भू पाल की 23.11.94 को गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। घटना के सम्बन्ध में थाना कोतवाली मं जयबख्श पाल निवासी भरवलिया द्वारा कोतवाली थाने में इस आशय की रिपोर्ट दर्ज करायी गयी थी कि घटना के दिन पूर्व मंत्री रामकरन आर्य अपनी जीप से अपने समर्थकों व सुरक्षा कर्मियों के साथ कहीं जा रहे थे, गाड़ी टकरा जाने से नाराज होकर शम्भू पाल को घेर लिया। इस दौरान आपसी बातचीत में ही विवाद उत्पन्न हो गया रामकरन आर्य ने हत्या कर की नीयत से मृतक शम्भू पाल को गोली मारकर दिया। जिससे शम्भू पाल लहूलुहान होकर गिर गये तथा उनकी मृत्यु हो गयी।

रिपोर्ट के आधार पर थाना कोतवाली में अपराध संख्या 454/94 अन्तर्गत धारा 147,148,149, 302, 323, 504, 506 आई.पी.सी. पंजीकृत हुआ। तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक पवन कुमार सिंह ने विवेचना शुरू किया। लेकिन बीच में ही उनका स्थानान्तरण हो जाने के कारण वृजेन्द्र मोहन पाण्डेय ने पूर्व मंत्री रामकरन आर्य के अलावा ओम प्रकाश, सन्तराम, राम उजागिर, सदलू, उस्मान, राम प्यारे आदि के विरूद्ध मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के न्यायालय में आरोप पत्र प्रेषित किया। सत्र न्यायालय में सभी अभियुक्ता पर आरोप तय किया गया। अभियोजन पक्ष ने अपने कथानक को साबित करने के लिए अभियोजन के साक्ष्यो का परीक्षण कराया।

विद्वान न्यायाधीश ने दोनो पक्षों के तर्को को सुनने के बाद आज अपना निर्णय खुले न्यायालय में सुनाया। न्यायाधीश ने अपने फैसले से पूर्व मंत्री रामकरन आर्य को हत्या का दोषी पाते हुए अन्य अभियुक्तों को दोषमुक्त करार दिया। निर्णय के अनुसार रामकरन आर्य को आई.पी.सी. की धारा 302 में आजीवन कारावास तथा 20 हजार अर्थदण्ड धारा 504 में 1 वर्ष का कारावास तथा एक हजार जुर्माना, धारा 506 आई.पी.सी. में 3 वर्ष का सश्रम कारावास व दो हजार जुर्माना की सजा सुनायी। शेष अभियुक्तों में अमरचंद, संतराम, रामपियारे, आरक्षी भूपेन्द्र कुमार तथा बनारसी प्रसाद का धारा 147 148, 149, 302, 501, 506 आईपीसी के आरोप से मुक्त कर दिया। सभी सजायें एक साथ चलेगी। दोष सिद्ध के पश्चात रामकरन आर्य को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जिला कारागार बस्ती भेज दिया गया। राज्य की ओर से मुकदमें की पैरवी जिला शासकीय अधिवक्ता जय सिंह एवं सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता आलोक सिंह ने किया।

Read 55 times

फोटो गैलरी

Market Data

एडिटर ओपेनियन

एयर इंडिया निजीकरण की कोई मंशा नहीं!

एयर इंडिया निजी...

नई दिल्ली।। एयर इंडिया के विनिवेश के बार...

एसबीआई ने कमाया 12.35% का शुद्ध लाभ

एसबीआई ने कमाया...

मुंबई॥ देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टे...

इंफोसिस को जबरदस्त मुनाफा, शेयर में तेजी!

इंफोसिस को जबरद...

मुंबई।। इंफोसिस लिमिटेड ने इस वित्त वर्ष...

नैनो का CNG मॉडल लॉन्च, कीमत 2.52 लाख

नैनो का CNG मॉड...

मुंबई।। टाटा ने नैनो का सीएनजी मॉडल लॉन्...

Video of the Day

Contact Us

About Us

Anurag Lakshya is one of the renowned media group in print and web media. It has earned appreciation from various eminent media personalities and readers.