Print this page

IPL की साख पर सवाल गलत: श्रीनिवासन

Written by  लीड इंडिया, Mail Us: info@leadindiagroup.com Published in Sports Wednesday, 18 July 2012 10:20
Rate this item
(0 votes)

नई दिल्ली।। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष एन. श्रीनिवासन का कहना है कि बीसीसीआई खेल से भ्रष्टाचार की बुराई को खत्म करने के लिए काम कर रहा है लेकिन खुद की कुछ सीमाएं हैं और ताजा स्पाट फिक्सिंग विवाद के कारण किसी को आईपीएल की साख पर सवाल नहीं उठाना चाहिए। 

 

मालूम हो कि दिल्ली पुलिस ने विवादास्पद तेज गेंदबाज एस श्रीसंत, स्पिनर अंकित चव्हाण और अजीत चंदीला को आईपीएल के मौजूदा सत्र के तीन मैचों में स्पाट फिक्सिंग के आरोप में गिरफ्तार किया।

 

एक न्यूज चैनल से खास बातचीत में बीसीसीआई अध्यक्ष एन. श्रीनिवासन ने कहा, ‘जो कुछ हुआ, उससे कोई भी इनकार नहीं कर सकता।

 

हम बैठे नहीं रहेंगे और इसे होने की अनुमति भी नहीं देंगे। इसका क्या असर होगा, देखते हैं कि क्या होता है।

 

आरोपों को साबित होना होगा, खिलाड़ियों के भी अधिकार हैं। आईपीएल अब भी विश्वसनीय है। इस पर आरोप लगे हैं और हम इसकी जड़ तक जाएंगे।

 

बीसीसीआई प्रमुख ने कहा, ‘यह खिलाड़ियों के जोखिम का स्पष्ट संकेत है। ये रणजी और टेस्ट खिलाड़ी हैं। ऐसा नहीं है कि वे नहीं जानते थे कि क्या गलत है लेकिन उन्होंने फिर भी ऐसा किया। ऐसा लगता है कि वे लालची हो गए थे।

 

ऐसा लगता है कि तीन खिलाड़ी शिकार बन गए।श्रीनिवासन ने इस भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए अपने प्रयासों का भी उल्लेख किया और स्वीकार किया कि ऐसा करने में उनकी सीमाएं हैं।

 

उन्होंने कहा, ‘हमारे पास राज्य, सरकार, पुलिस या एजेंसी जैसे संसाधन नहीं हैं। हम कुछ निश्चित सीमाओं के अंतर्गत काम करते हैं। हम आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधक इकाई की सेवाएं लेते हैं।

 

रविवार को हमारी कार्यकारी समिति की बैठक है और हम सभी पहलुओं पर विचार करेंगे। हम इसमें अपनी भ्रष्टाचार रोधी इकाई की बात सुनेंगे।

 

हम सारी सूचना मिलने का इंतजार करेंगे।श्रीनिवासन ने यह भी कहा कि दोषी खिलाड़ियों को बख्शा नहीं जाएगा। 

 

उन्होंने कहा, ‘हम प्रक्रिया के अनुसार काम करेंगे। श्रीसंत को अनुशासनात्मक जांच का सामना करना होगा। इसका जो भी निष्कर्ष होगा, अगर वह दोषी पाया जाता है तो उसके आधार पर सजा दी जाएगी।

Read 11956 times Last modified on Wednesday, 16 October 2013 09:39

Free and Full Templates

bet365.artbetting.co.uk

bet365